Friday, June 01, 2007

Blogger Blogs पर टिप्पणीकर्ता के लिये मधुर संदेश।

वर्डप्रेस की अपेक्षा (जहाँ प्रविष्टि पृष्ठ पर ही कमेन्ट फ़ार्म होता है) ब्लागर ब्लाग्स पर (क्लिक करके पॉप-अप या नयी खिड़की खुलने का इन्तज़ार) टिप्पणी करना थोडा अरुचिकर होता है, उस पर से अगर किसी ने वर्ड वेरीफ़िकेशन लगा रखा हो तो कभी-कभी, टिप्पणी की इच्छा समाप्त हो जाती है।

अभी-अभी पता चला है कि आप अपने टिप्पणीकर्ता के लिये एक मधुर संदेश उपलब्ध करा सकते हैं, जो कि टिप्पणी-कर्ता को एक बढिया टिप्पणी के लिये प्रेरित भी कर सकता है।

एक बात और कि आप ये संदेश अपनी हर प्रविष्टि के लिये, अलग अलग रख सकते हैं। आपको करना बस इतना है कि, प्रविष्टि पब्लिश करने के बाद, एक बढिया सा संदेश भावी टिप्पणी कर्ताओं के लिये लिख छोड़ना है।

ये संदेश सादा टेक्स्ट न होकर बढि़या html फ़ॉरमैटेड भी बना सकते हैं।

अधिक जानकारी के लिये नीचे स्क्रीन शाट देखें।

Comment Form Message

ये भी हो सकता है कि जिनका मूड टिप्पणी करने का न भी बन रहा हो वो भी आपका मस्त-मधुर संदेश देखने के लिये ही टिप्पणी के लिन्क पर क्लिक कर दें और फ़िर आपने ज्यादा बंदिशें न लगा रखीं हो तो बोनस मे टिप्पणी ही मिल जाये।

तो अब काल्ह करै सो आज कर आज करै सो अब के अनुसार अभी शुरू हो जाइए।

Form Message

अब देखना ये है कि कौन कितनी क्रियात्मकता प्रदर्शित करता है, अपने प्रिय टिप्पणीकारों के लिये।

8 comments:

Udan Tashtari said...

बड़े काम की चीज दे दी, आप तो रोज ही चेतना जागृति में लगे हैं. बहुत आभार.

Anonymous said...

मिश्रा जी, वर्डप्रेस वालों के लिये कुछ उपाय हो तो कहिये. वैसे इस जानकारी के लिये शुक्रिया.

Rachna Singh said...

thank you i have implemented it remarkable information any good tool to write off line hindi please

Dr Prabhat Tandon said...

बढिया जानकारी! लुभावने वाली!

Anonymous said...

ई तो वही बात हुई गई भईया कि चॉकलेट न दिला सके तो टॉफी ही हथेली पर रख दी!! काम की फीचर देने की जगह ब्लॉगर की टीम छुट-पुट गैरज़रूरी चीज़ों से प्रयोगकर्ताओं को बहला रही है!! ;)

Sanjeet Tripathi said...

शुक्रिया इस बढ़िया जानकारी के लिए मिश्रा जी

रवि रतलामी said...

हा हा हा ...

ये तो बहुत बढ़िया है. कुछ लोगों के तो ये बहुत काम आएगा.

जैसे कि अब हमें ये संदेश पढ़ने को मिल सकते हैं -

सावधान! व्यक्तिगत गाली गलौज वाली भाषा न लिखें नहीं तो आपकी टिप्पणी कूड़े दान में फेंक दी जाएगी.

संजय बेंगाणी said...

यह सही सुझाव दिया है. हम भी दिन में दस बीस थेंक्यू पा लेंगे. :)

अच्छा सुझाव, ब्लोगर वाले अमल में लाये वरना टिप्पणी देना बन्द कर देंगे. :)