Wednesday, March 14, 2007

Waiting for a Blogger Meet

डाउनलोड (२१३ सेकेंड, २.३४ मे.बा.)

हाल ही मे दिल्ली मे सम्पन्न ब्लॉगर-सभा बहुत ही घटना प्रधान रही। इसका विस्तृत विवरण हम सबको पढ़ने को मिला। अब कुछ सुनने की बारी। कहते हैं कि इन्तज़ार का फल मीठा होता है; एक और बात पता चली कि इन्तज़ार मे कुश्ती भी हो सकती है जिसका फल एक ब्लॉग पोस्ट बन के भी आ सकता है।

सुनिये अमित की कहानी उन्हीं की ज़ुबानी

10 comments:

Anonymous said...

मिश्रजी, 'फ़ल' नहीं बल्कि 'फल' होना चाहिए।

RC Mishra said...

Anonymous Ji,बिलकुल सही कह रहे हैं आप!
धन्यवाद।

Anonymous said...

पाडकास्ट सुना। अमित और मिश्रजी की मधुर आवाजें सुनी। अच्छा लगा!

Anonymous said...

Great Article! Thank You!

Anonymous said...

Thanks to author! I like articles like this, very interesting.

Anonymous said...

nice blog!

Anonymous said...

nice blog!Nice information

Anonymous said...

:-) ochen\' zaebatyj blog!

Anonymous said...

soglasen s vami ochen\' zaebatyj blog!

Anonymous said...

Keep up the great work. It very impressive. Enjoyed the visit!