Monday, July 25, 2011

रोम से हेलसिंकी - Rome to Helsinki - I

इस बार भी अगस्त की छुट्टियों के लिये घर आना था। अगस्त मे यूरोप से बाहर जाने वाले उड़ानें महंगी होती हैं, इसलिये हमने मई मे ही तारीखों पर ज्यादा तवज्जो न देते हुए २६ जुलाई और २९ अगस्त का टिकट याहू ट्रवेल से खरीद लिया।
Airport Terminal B KLM Airlines
ये तो बाद मे पता चला कि अगर मै कुछ और दिन रूक जाता तो कितना अच्छा होता, २६ जुलाई की शाम को पास के ही एक शहर के भव्य एवं प्रख्यात अरेना मे 'मैकबेथ' का मञ्चन था, कनाडा से हमारे एक प्रिय मित्र यूरोप टूर पर आ रहे थे, कुछ ऑफिसियल काम भी थे जो २६ की सुबह तक हो जाने चाहिये थे, आते आते ये भी पता चला कि म्यूनिख से राज भाटिया जी भी दो सप्ताह के लिये इटली भ्रमण पर आ रहे हैं।
Finnair Boeing MD11 Jet Interior
हमारी दिल्ली की उड़ान वाया हेलसिंकी थी जहाँ १४ घंटे का पर्याप्त समय था जिसमे हमारी हेलसिंकी देखने की इच्छा पूरी होने वाली थी। रोम से 7:40 शाम को चलकर 12:05 मध्य रात्रि को पहुंचना था, इसलिये हेलसिंकी के ओलम्पिक स्टेडियम मे स्थित स्टेडियन हॉस्टल आरक्षित करा लिया था।
हेलसिंकी के बारे सबसे पहले अपनी हिन्दी की सातवीं या आठवीं की किताब मे पढ़ा था, उसमे हेल सिंकी मे होने वाले हॉकी ओलम्पिक तथा वहाँ की भयानक ठन्ड का वर्णन था। भारत ने उस ओलम्पिक मे हॉकी का स्वर्ण पदक जीता था। हेलसिंकी, फ़िनलैन्ड की राजधानी है, यह देश पूर्वी यूरोप मे उत्तरी ध्रुव की तरफ़ स्थित है।
Sunset 26th July Fiumicinoi
ये सूर्यास्त की तस्वीर रोम के लियोनार्दो दा विन्ची एयर पोर्ट (फ़िउमिचिनो) से टेक-ऑफ करते समय की है।
रोम से हेलसिंकी - Rome to Helsinki - II
Enhanced by Zemanta

9 comments:

Sanjeet Tripathi said...

ह्म्म, अच्छी तस्वीरें है मिश्रा जी,
शुक्रिया!

Jitendra Chaudhary said...

अमां कहाँ तुम्हरा इटली और किधर रहा हेलसिंकी और उल्टी साइड रहा दिल्ली। तुम तो भाईजी, अगर तुमको इटली से फ़्रान्स जाना हो तो शायद अफ़्रीकन एयरलाइन्स वाया जोहन्सबर्ग जाओगे...हीही..।

खैर चलो इसी बहाने फिनलैन्ड के दर्शन भी हो गए, वैसे तो कभी जाना ना हो उधर शायद। भारत मे स्वागत है, कभी वाया कुवैत भी उड़ो, हम भी इधर बैठे है पलकें बिछाए।

Amit said...

अमां कहाँ तुम्हरा इटली और किधर रहा हेलसिंकी और उल्टी साइड रहा दिल्ली। तुम तो भाईजी, अगर तुमको इटली से फ़्रान्स जाना हो तो शायद अफ़्रीकन एयरलाइन्स वाया जोहन्सबर्ग जाओगे...हीही..।

ही ही ही ही ही!! :D

Udan Tashtari said...

जीतू तो अपने मन का किसी को घूमने भी न दे.हेलसिंकी से नोकिया का नया सेट ले लेते, वहीं बनता है तो शायद सस्ता मिलता हो. :)

-मस्त घूमिये, शुभकामनायें.

RC Mishra said...

संजीत, धन्यवाद।

जीतू भाई, आप भी समझते नही हो, वो क्या है कि, अमित को किसी सांझ परी ने बता दिया था शायद कि फ़िनलैन्ड मे बहुत खूबसूरत कन्यायें भी होती हैं, हमने सोचा ऐसा है तो क्यों न जा के कनफ़र्म कर लिया जाय, जिससे आगे से जाने वालों को सहूलियत हो। इसीलिये अमित बस ही ही ही ही कर रहे हैं।

समीर जी आपकी बात सोलह आने सच्ची है, पर सोनी के सिवा हमें कोई जँचता नही हम क्या करें
आप सबका शुक्रिया।

Satish said...

तस्वीरें वाकई कमाल की हैं| क्या आपने मोबाइल कैमरे से तस्वीरें खींची हैं या फिर डिजिटल कैमरे से?

मेरे ब्लॉग :
khudikokarbulanditna.blogspot.com
mindisatool.blogspot.com

ramkishore mehta said...

thanks

Khilesh said...

तस्वीरें वाकई कमाल की हैं|

नया हिन्दी ब्लोग

http://hindiduniyablog.blogspot.com/

Khilesh said...

तस्वीरें वाकई कमाल की हैं|

नया हिन्दी ब्लोग
hindiduniyablog.blogspot.com