Monday, September 04, 2006

A Parody.::.मैं और मेरा रूम

मैं और मेरा रूममेट अक्सर ये बातें करते हैं,
घर साफ होता तो कैसा होता.
मैं किचन साफ करता,
तुम बाथरूम धोते,
तुम हॉल साफ करते,
मैं बालकनी देखता.
लोग इस बात पर हैरां होते,
उस बात पर कितने हँसते.

मैं और मेरा रूममेट अक्सर ये बातें करते हैं.
यह हरा-भरा सिंक है या,
बर्तनों की जंग छिड़ी हुई है,
ये कलरफुल किचन है या,
मसालों से होली खेली हुई है.
है फ़र्श की नई डिज़ाइन या दूध,
बियर से धुली हुई हैं.

ये सेलफोन है या ढक्कन,
स्लीपिंग बैग है या किसी का आँचल.
ये एयर-फ्रेशनर का नया फ्लेवर है या,
ट्रैश-बैग से आती बदबू.
ये पत्तियों की है सरसराहट या,
हीटर फिर से खराब हुआ है.




ये सोचता है रूममेट कब से गुमसुम,
के जबकि उसको भी ये खबर है,
कि मच्छर नहीं है,
कहीं नहीं है.
मगर उसका दिल है,
कि कह रहा है
मच्छर यहीं है, यहीं कहीं है.


तोंद की ये हालत,
मेरी भी है,
उसकी भी,
दिल में एक तस्वीर इधर भी है,
उधर भी.
करने को बहुत कुछ है,
मगर कब करें हम,
इसके लिए टाइम,
इधर भी नहीं है,
उधर भी नहीं.

दिल कहता है कोई वैक्यूम क्लीनर ला दे,
ये कारपेट,
जो जीने को जूझ रहा है,
फिकवा दे.
हम साफ रह सकते हैं, लोगों को बता
दें।

साभार www.orkut.com

14 comments:

Sunil Deepak said...

ये कहाँ आ गये हम, तेरा चिट्ठा पढ़ते पढ़ते, मेरे सिर में ओ मिश्रा जी, तेरे शब्द हठौड़े से पड़ते.
:-)

Vijay Wadnere said...

ओ मिश्रा जी..!!

सही है भाई..!!
लैब में "पिक्चर" बनाते बनाते ये क्या कर रहे हो...!!

क्षितिज said...

मेरी सेक्रेटरी के अनुसार इसे जर्मन में "Männerkrankheit" अर्थात पुरुषों की बीमारी कहा जाता है।

RC Mishra said...

@ डा. Sunil जी, हाल तो हम अपना बयाँ कर रहे थे ये आपको....

@ Vijay: श्री मानजी आप किस "पिक्चर" की बात यहाँ घुसेड़ रहे हैं :-)

@ क्षितिज भाई जानकारी बढा़ने के लिये धन्यवाद और अभी से सेक्रेटरी रख लेने के लिये बधाइयाँ।

Pratyaksha said...

बढिया :-)

Pratyaksha said...

बढिया

रत्ना said...

मुझे अपने बाहर पढ़ रहे बेटे के फलैट का हाल याद आ गया।

RC Mishra said...

@ प्रत्यक्षा जी, है न मुस्कुराने के लिये अच्छा...

@ रत्ना जी, आप तो ऐसे (वास्तविक)हालात देख चुकी हैं...कुछ सुझाव दीजिये न..प्लीज!

Udan Tashtari said...

वाह भाई मिश्रा जी, बहुत पहले का हास्ट्ल का कमरा याद दिला दिया.

SHUAIB said...

सुनिल जी ने बहुत खूब टिप्पणी लिखी आपकी कवीता पर :) ये कहाँ आ गये हम, तेरा चिट्ठा पढ़ते पढ़ते, मेरे सिर में ओ मिश्रा जी......
बहुत बढिया अंदाज़ है आपका :))

रजनीश मंगला said...

आपकी ये वाली पोस्ट यहां डाली गई है।

mshahbaztheitvalley@gmail.com said...

Good guidelines are Sound advice, I would like to be a part of your web page anyway.
smart card access control

mshahbaztheitvalley@gmail.com said...

Attempt not impossibilities.
Bethesda Locksmith

Kathleen Hennis said...

Itˇs really a pleasant and useful piece of data. i'm glad merely|that you just} simply shared USAeful|this beneficial} information with us. Please keep USA up so far like this. thanks for sharing.
DePuy ASR Hip Implant Trial
DePuy ASR Lawsuit
DePuy ASR Hip Lawsuit
Vaginal Mesh Lawsuit News
Vaginal Mesh Lawsuit
Vaginal Mesh News
Vaginal Mesh