Thursday, May 11, 2006

जब तक पहेलीबाज अवकाश पर हैं.....

dvc2
और यदि आपको ये भी लगता है कि पहेली बाज की पहेलियां
सुलझाने मे आपके अमूल्य समय की क्षति होती है तो आप ये
पहेलियां सुलझाइये और वसूल
dvc3
कीजिये अपने समय का मूल्य।
dvc1
अधिक जानकारी के लिये ऊपर चिपकायी तस्वीर देखें।
जो ब्लागर बन्धु आजमा चुके हैं वे अपनी प्रगति एवं विचारो
से अवश्य अवगत करायें। अन्त मे, इस पहेली को सुलझाने के
लिये आपके पास गुगल खाता होना चाहिये, जी मेल होना जरूरी
नहीं है और आप अपना गुगल खाता यहां जाकर खोल सकते हैं

1 comment:

उन्मुक्त said...

मिश्रा जी
मैने भी इस पर कुछ लिखा है उसे आपकी इस पोस्ट से जोड़ दिया है| यह यहां पर है
http://unmukt-hindi.blogspot.com/2006/05/blog-post_11.html
मेरे विचार से यह क्वेस्ट आपको वहींं ले जाती है जहां किताब ले जाती है